जापान में भीषण तूफ़ान ने अपना दस्तक दे दिया है। जापान से आए दिन बुरी खबर सामने आ रही है। कुछ ही दिनों पहले जापान में बारिश ने खूब तबाही मचाया था, वहीं अब इस तूफ़ान की वजह से 9 लोगों के मारे जाने की खबर सामने आई है और 100 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो यह तूफ़ान पिछले 60 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। साथ ही तूफान की वजह से कई इलाकों में भारी बारिश और भूस्खलन भी हुआ है।

मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

फोटो-ट्विटर

सम विभाग की अलर्ट के बाद ही जापान में इसका सामना करने के लिए लोग कड़े कदम उठा रहे है, लेकिन इसके बावजूद शनिवार को एक शख्स की मौत हो गई और सैकड़ों घायल हो गए। हालांकि शुरूआती दौर में इस तूफ़ान से बचने के लिए 73 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। बता दे कि रेलवे स्टेशन से लेकर हवाई सेवा को तत्काल बंद कर दिया गया है। जापान के मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार शाम वहां 144 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चल सकती है। अब यह तूफान होंशू की ओर से प्रशांत महासागर के ऊपर से उत्तरी क्षेत्र की ओर बढ़ रहा है।

60 सालों का टुटा रिकॉर्ड

मिली जानकारी के मुताबिक यह तूफ़ान साल 1958 में कान्टो और इजू क्षेत्र में तबाही मचाया था, जिसकी वजह से करीब 1,200 से अधिक लोगों की जान चली गई थी। वहीं 60 सालों बाद एक बार फिर से जापान में तूफ़ान तबाही मचाने को तैयार है। प्रशासन ने लाखों लोगों को सुरक्षित जगह जाने की सलाह दी है। अधिकारियों ने भीषण बाढ़ और भूस्खलन की कई घटनाओं की रिपोर्ट दी है। इन घटनाओं में कई लोग लापता हो गए। हालांकि तूफान से पहले समंदर में भूकंप भी आया जिसकी तीव्रता 5.3 थी लेकिन इसका असर ज्यादा नहीं हुआ क्योंकि सेंटर काफी नीचे था। इतना ही नही जापान सरकार ने एक्शन लेने के लिए एक आपातकालीन बैठक बुलाई और मध्य, दक्षिण व पश्चिमी जापान के निवासियों को इस पूरे सप्ताह सतर्क रहने की सलाह दी है। 

हेजिबीस का क्या है ?

तूफान के आने से पहले ही इसके प्रभाव के चलते तेज बारिश हुई। रग्बी विश्व कप के दो मैचों को भी रद्द कर दिया गया है। तूफान की वजह से जापानी ग्रैंड प्रिक्स में देरी हुई तथा तोक्यो क्षेत्र में सभी उड़ानें रोक दी गईं। इससे काफी कुछ तबाह हो गया है। इसी लिए इस तूफान को हेजिबीस कहा जाता है। साला भाषा में समझे तो हेजिबीस का मतलब होता है तेज गति। यह तूफ़ान जब भी आता है तो तेज गति में ही आता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here