'सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार' केंद्र सरकार ने सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम पर पुरस्कार देने का ऐलान किया है।
'सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार' केंद्र सरकार ने सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम पर पुरस्कार देने का ऐलान किया है।

‘सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार’ केंद्र सरकार ने सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम पर पुरस्कार देने का ऐलान किया है। यह गृह मंत्रालय की तरफ से जारी बयान दिया गया है कि पुरूस्कार में एक पदक और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। यह सम्मान विशेष स्थिति और अत्यधिक सुयोग्य मामलों को छोड़कर मरणोपरांत प्रदान नहीं किया जाएगा।

बयान में यह भी कहा गया है कि ‘सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार’ के साथ कोई भी नकद पुरस्कार नहीं दिया जायेगा। यह भी कहा गया है कि एक साल में तीन से अधिक पुरस्कार नहीं दिए जायेंगे। इस पुरस्कार की घोषणा सरदार पटेल की जयंती राष्ट्रिय एकता दिवस 31 अक्टूबर को मनाया जाता है, को की जाएगी।

इसके लिए गृह मंत्रालय ने ‘सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार’ के सम्बन्ध में पहले ही एक अधिसूचना जारी कर दी है। गृह मंत्रालय द्वारा यह कहा गया है कि इस पुरस्कार का मकसद राष्ट्रिय एकता और अखंडता को बढ़ावा देने और मजबूत तथा अखंड भारत के मूल्य को पूरा करने में योगदान देना है। यह पुरस्कार राष्ट्रपति द्वारा दिया जाएगा। इस पुरस्कार समारोह का आयोजन राष्ट्रपति भवन में किया जाएगा।

इस पुरस्कार के लिए समिति का गठन किया जायेगा

'सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार'- सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम से सर्वोच्च नागरिक को सम्मानित करेगी केंद्र सरकार

‘सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार’ के लिए प्रधानमंत्री एक समिति का गठन करेंगे। इस समिति में मंत्रिमंडल सचिव, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, गृह सचिव, अन्य सदस्य शामिल किए जाएंगे। इसके साथ प्रधानमंत्री तीन-चार अन्य गणमान्य लोगों को भी इस समिति में शामिल करेंगे। कहा जा रहा है, भारत में स्थित संस्थान या संगठन या कोई भी भारतीय नागरिक इस पुरस्कार के लिए विचार-अर्थ किसी भी व्यक्ति को नामित कर सकता है।

‘सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार’ के लिए हर साल नामांकन आमंत्रित किए जाएंगे। ऐसे में कोई भी राज्यों में चल रहीं सरकारें, संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन और मंत्रालय भी नाम भेज सकते हैं। स्वयं व्यक्ति भी अपना नाम नामांकन के लिए दे सकता है। इसके लिए आवेदन करने के लिए एक विशेष रूप से डिज़ाइन की गयी वेबसाइट पर ऑनलाइन जमा करना जरुरी है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here