जैसा की हमें पता है इस समय देश में बढ़ती लिंचिंग की घटनाओं एक बड़ी समस्या बनता जा रहा है. इन दिनों इस घटनाओ को लेकर कई बड़ी हस्तियों पीएम मोदी को पत्र लिख कर सुझाव दे रहे है. इन सब से में सबसे ज्यादा चर्चा में तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां है. हाल में ही इन्होने एक ट्वीट के जरिये पीएम मोदी को सुझाव भेजा है. तो चलिए बताते है नुसरत जहां ने क्या लिखा अपने ट्वीट में…

नुसरत का ट्वीट हुआ वायरल

Image result for मॉब लिंचिंग पर 49 हस्तियों ने मोदी को लिखा पत्र तो नुसरत जहां ने भी ट्वीट कर कही यह बात

सोशल मीडिया से लेकर न्यूज़ चैनल तक नुसरत का यह ट्वीट वायरल हो रहा है. इस ट्वीट में नुसरत ने लिखा कि “आज जहां हर कोई सड़क, बिजली, जैसे मुद्दों पर बात कर रहा है, मुझे खुशी है कि हमारी सोसाइटी ने एक बहुत बुनियादी मुद्दा उठाया है, “इंसान की जिंदगी.” आगे लिखा की मुझे देश की नागरिक से काफी कुछ उम्मीदे है,इसी तरह वो अपनी आवाज उठाते रहे. नफरत के अपराध और मॉब लिंचिंग की घटनाएं हमारे देश में बढ़ती जा रही हैं. 2014 से लेकर 2019 के बीच में ये घटनाएं सबसे ज्यादा हुई हैं. यह घटना सिर्फ और सिर्फ दलितों, मुस्लिमो पर ही ही क्यों हो रही है?

सवालों के घेरे में पीएम मोदी

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि देश में दिन प्रति दिन यह घटना आक्रम रूप लेती जा रही है. इसी घटनाओं से चिंतित फिल्मकार श्याम बेनेगल और निर्देशक अनुराग कश्यप सहित 49 नामी हस्तियों ने प्रधानमंत्री के नाम एक खुला पत्र लिखा है. इस पत्र में साफ़ तौर पर कहा गया है कि ‘जय श्रीराम’ का नारा भड़काऊ नारा बनता जा रहा है. इससे भगवान् राम का नाम भी बदनाम हो रहा है. देश के पीएम होने के नाते इस घटना को रोकने के लिए कोई कदम उठाना उनका फ़र्ज बनता है. इससे लोगो के बीच नफरत की भावना उत्पान हो रही है.

लेटर में क्या है लिखा ?

लेटर में पीएम मोदी के कार्यकाल में हुए घटनाओ के बारे में बातया गया है. इसमें साफ़ तौर पर काह गया है कि साल 2019 से लेकर अब तक 11 हेट क्राइम्स और 4 हत्याएं हो चुकी हैं और ये सारे दलित लोगो को ही निशाना क्यू बनाया गया है? आगे नुसरत ने कहा की भगवान् राम के नाम पर खून खराबा किया जा रहा है. इससे भगवान् राम का नाम भी ख़राब हो रहा है. लेकिन सरकार अभी तक खामोशा बैठी है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here