Rajasthan Women:- हमारे देश पहले से ही महिलाओं को घूँघट में रखने को कहा गया है। इसके कारण यह है कि अपने से बड़े या ससुराल में बड़ों को अपना चेहरा नहीं दिखाते। एक तरह से किसी बड़े को मान-सम्मान देना। आज भी गाँव में महिलाएं घूँघट में रहना पसंद करती हैं।

Rajasthan Women:- राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने मंगलवार को महिलाओं के पर्दा करने के सन्दर्भ में एक बात कह दी। उन्होंने कहा, ‘ज़माना गया घूँघट का।’ यह बात उन्होंने महिलाओं के अधिकारों के लिए काम कर रही एक संगठन के एक कार्यक्रम में कुछ महिलाओं की तरफ इशारा करके कही। यहाँ कुछ महिलाएं बिना घूँघट के शामिल हुई थीं। जिसपर राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा, कुछ ग्रामीण इलाकों में आज भी महिलाएं घूँघट में रहती हैं।

उन्होंने समाज के द्वारा किसी भी महिला को घूँघट में कैद करने के अधिकार पर सवाल उठाये ? उन्होंने इस पार आगे कहा, जब तक घूँघट नहीं हटेगा, कोई भी महिला आगे नहीं बढ़ पाएगी। ज़माना गया घूँघट का।

Rajasthan Women:- हिम्मत और हौसले के साथ आपको आगे बढ़ना पड़ेगा। सरकार आपके साथ खड़ी रहेगी। अब ज़माना बदल गया है और नारी शक्ति को घूँघट में कैद नहीं किया जा सकता। राजस्थान के मुख्यमंत्री के इन शब्दों को सुनकर ववहन की महिलाओं को बहुत हिम्मत मिली है। यही नहीं, मुख्यमंत्री ने महिलाओं के हित के लिए बहुत सी बातें कह डाली।

राजस्थान जैसे राज्य में आज भी काफी ऐसी महिलाएं हैं जो बहुत हद तक आगे बढ़ भी चुकी हैं। परन्तु, कुछ हैं जो घूँघट के पीछे छिप कर बैठी हुई हैं। आज भी राजस्थान में बाल विवाह और न पढ़-लिख पाने की वजह से वहां की नारी पीछे हैं। हमने काफी बार, ख़बरों में देखा या पढ़ा होगा, राजस्थान की महिलाएं चुनाव लड़ रही हैं, लेकिन छपी हुई फोटो में वह घूँघट में ही नज़र आ रही हैं।

Rajasthan Women:- राज्य में जब महिला सीएम थीं, तब भी वहां की महिलाएं ऐसी ही ज़िन्दगी जी रही थीं। इसके बीच मुख्यमंत्री गहलोत का कहना है, उनकी सरकार महिला अत्याचारों पर सतर्क है। मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन में एक प्रथा का नाम लिया, वह है डायन प्रथा। उन्होंने कहा, डायन होती ही नहीं है।

राजस्थान पुलिस ने हाल ही में एक डाटा साझा किया था। उस रिपोर्ट में यह बात सामने आयी थी, कि महिलाओं में इस साल 66% महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ गया है। इस साल जनवरी से जुलाई के बीच में करीब 25,420 महिलाओं के प्रति अपराध के केस सामने आए थे। जो की पिछले सालों से काफी ज़्यादा है। सबसे ज़्यादा महिलाओं के साथ होती छेड़छाड़, रेप, दहेज़ हत्या, मर्डर जैसे अपराध ही गिनती में ही हैं।

Rajasthan Women:- राजस्थान की महिलाओं के लिए कॉलेज की शिक्षा बिलकुल मुफ्त है। सरकारी कॉलेज की तरफ रुख करती लड़कियों के लिए यह बहुत बड़ी खबर थी। मुफ्त शिक्षा के लिए 252 कॉलेजों को चिन्हित किया गया। अगले साल से महिलाओं के लिए यह प्रोग्राम शुरू कर दिया जाएगा।

लेकिन, आज भी राज्य में काफी लोगों की सोच इतनी उन्नत नहीं हुई है कि वह अपनी बहु-बेटियों को इतनी आज़ादी नहीं दी है जिसकी वह हक़दार हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here