दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज से अपने काम पर जाने वालों के लिए थोड़ी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इस ब्रिज पर काम करने वाले अधिकारियों ने एक योजना बनाई है। योजना यह है कि इस पुल को रोज़ कुछ घंटों के लिए बंद किया जाएगा। इसका कारण यह बताया जा रहा है कि ब्रिज पर खम्बों के ऊपर निगरानी चौकी के निर्माण के लिए जो क्रेन व अन्य उपकरण लाए गए हैं, उन्हें हटाया जा सके।

ख़बरों में बताया जा रहा है, दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने बताया है, ब्रिज और खंभो का निर्माण करने वाली एजेंसी दिल्ली टूरिज्म एंड ट्रांसपोर्टेशन डेवलपमेंट कारपोरेशन को ब्रिज वाली जगह से टावर क्रेन और सीढ़ियों को हटाने के लिए लगभग 2 से 3 हफ्ते के लिए 12 घंटों का समय चाहिए। अधिकारी ने कहा, इस पुल पर लगे हुए उपकरण बहुत भारी हैं, ऐसे में इन्हें हटाते समय सड़क पर यातायात को चलते रहने की मंजूरी नहीं दी जा सकती।

 दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने बताया है, ब्रिज और खंभो का निर्माण करने वाली एजेंसी दिल्ली टूरिज्म एंड ट्रांसपोर्टेशन डेवलपमेंट कारपोरेशन को ब्रिज वाली जगह से टावर क्रेन और सीढ़ियों को हटाने के लिए लगभग 2 से 3 हफ्ते के लिए 12 घंटों का समय चाहिए।

ख़बरों के अनुसार, विभाग इस साल जून माह से ही ट्रैफिक पुलिस से इलाके में यातायात को कुछ समय के लिए बाधित करने को कह रहा है। विभाग के अधिकारी का कहना है कि, इस काम को दिन की रोशनी के समय में ही किया जा सकता है। अधिकारी ने कहा कि अगर हमारी इस मांग को पूरा किया गया तो इस काम को करने में 15-20 दिन लगेंगे।

सिग्नेचर ब्रिज के अलावा यह पुल खतरनाक सेल्फी पॉइंट भी बन चूका है। इसके साथ यह पुल हादसों के लिए भी काफी फेमस रहा है।

इस पुल को पिछले साल नवंबर में आम जनता के लिए खोला गया था। इसका उद्घाटन दिल्ली मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने किया था। इस साल जून में 154 मीटर की ऊंचाई पर बनी चार मंजिला निगरानी चौकी के निर्माण का काम पूरा हुआ था। यह ब्रिज, वजीराबाद को पूर्वी दिल्ली से जोड़ता है। सिग्नेचर ब्रिज के अलावा यह पुल खतरनाक सेल्फी पॉइंट भी बन चूका है। इसके साथ यह पुल हादसों के लिए भी काफी फेमस रहा है।

माना जा रहा है कि दिवाली के बाद इस ब्रिज से लोगों का आना-जाना कुछ समय के लिए बंद हो जाए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here