दिल्ली जो की ट्रैफिक जाम को लेकर देश भर में मशहूर है | कुछ लोग तो दिल्ली की पहचान ही ट्रैफिक जाम से करते है | पर अब शायद लोग दिल्ली की पहचान एक पुल को लेकर किया करेंगे जी हाँ 14 साल के लम्बे इंतज़ार के बाद दिल्ली में आधुनिक तकनीकों के इस्तेमाल से सिग्नेचर ब्रिज नामक पुल का निर्माण कार्य समाप्त हो गया है | अब इस ब्रिज का इस्तेमाल लोगो की सुविधा के रूप में किया जाया करेगा | कड़ी मेहनत और प्रयासों के बाद यह विशाल पुल तैयार हुआ है |

सड़को पर कब से दौड़ेंगे वाहन ?

 

14 साल के लम्बे इंतज़ार के बाद अब सिग्नेचर ब्रिज का काम पूरा हूँ चूका है | सोमवार 5 नवंबर से इस पर वाहनों की आवा जाही शुरू हो जाएगी | रविवार 4 नवंबर को दिल्ली के आम आदमी पार्टी के मुख़्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने वजीराबाद में यमुना नदी पर बने इस ब्रिज का उद्घाटन किया | इस ब्रिज की मदद से अब लोगो को घंटो भरा जाम नहीं झेलना पड़ेगा | यह उत्तर-पूर्वी दिल्ली, गाज़ियाबाद व बाहरी दिल्ली को आपस में जोड़ेगा |

 

सिग्नेचर ब्रिज से जुड़ी स्पेशल बातें

आठ लाइन वाले इस ब्रिज की कुछ ख़ास बातें है जो आपको काफी प्रभावित करेगी | ब्रिज की सुरक्षा नज़रिये से मॉनिटरिंग सिस्टम तैयार किया गया है | इस विशाल ब्रिज की सफाई भी यूरोप से आई मशीनों द्वारा की जाएगी | इस ब्रिज की ख़ास बात यह है की इसके चारो तरफ सेंसर सिस्टम है जो कण्ट्रोल रूम पर पल पल की गतिविधि की खबर देते रहेंगे | ब्रिज में कहीं भी कोई भी चूक महसूस होगी तभी सेंसर इसकी जानकारी देंगे |  इस ब्रिज की ऊंचाई 154 मिटर की है | साथ ही 575 मीटर लम्बा और 35.2 मीटर चौड़ा है ब्रिज | इस ब्रिज को बनाने में कुल लागत 1,518 करोड़ की आई है | आप लोग इस बात से तो वाकिफ ही होंगे की साल 1998 में युमना में बस गिरने से 22 लोगो की मौत हो गयी थी जिसके कारण सिग्नेचर ब्रिज बनाने का फैसला लिया गया था |

 

उद्घाटन में हुए राजनितिक ड्रामे ?

 

मनोज तिवारी बीजेपी सांसद उद्घाटन के समय पहुंचे जब की उन्हें समारोह में बुलाया नहीं गया था | इसके बावजूद तिवारी अपने समर्थको को लेकर समारोह पर पहुंचे | उद्घाटन स्थल पर जाने से उन्हें पुलिस कर्मियों ने रोका जिसको लेकर समर्थको और पुलिस के बिच धक्का मुक्की हो गयी | जिसके बाद तिवारी ने कहा इस ब्रिज का निर्माण मैंने दोबारा शुरू कराया था | तिवारी ने कहा मैं यहां से सांसद हूँ | ऐसे में समस्या क्या है | क्या मैं अपराधी हूँ ? पुलिस ने मुझे रोका क्यों ? पुलिस और आम जनता पार्टी ने मेरे साथ दुर्व्यवहार किया है |

 

पत्रकारों से बोले मनोज तिवारी |

इस मामले पर मनोज तिवारी ने नराज़गी ज़ाहिर करते हुए पत्रकारों से कहा पुलिस के जिन अधिकारीयों ने मुझसे बतमीज़ी की है उनकी पहचान हो गयी है | मैं इन सबको 4 दिनों के भीतर बताऊंगा की पुलिस क्या होती है |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here