Nityaanand Baba ‘kailaasa’- क्या आपको स्वयंभू बाबा नित्यानंद याद हैं? अरे वही बाबा जो रेप के आरोपी बताये जाते हैं। फिर से अखबारों के रंगीन पन्नों में और टीवी की कलर्ड स्क्रीन्स में नज़र आ रहे हैं। अब, अहमदाबाद स्थित उसके आश्रम के लिए अनुयायियों से चंदा जुटाने की खातिर बच्चों को किसी तरह अगवा करके कैद में रखने के लिए गुजरात पुलिस तलाश कर रही है।

इस समय एक वेबसाइट सभी लोगों के सामने आ रही है। नाम है Kailaasa.org. अब, लोगों को यह संकेत मिल रहे हैं कि नित्यानंद बाबा ने अपने नए देश की स्थापना कर ही दी, इसके लिए बाबा ने नया ध्वज, नया संविधान तथा नया प्रतीक चिन्ह भी तय करके रख लिया है।

अब अगर कोई वेबसाइट पर जा कर देखें तो भगोड़े स्वयंभू बाबा नित्यानंद ने ‘हिन्दू संप्रभु राष्ट्र’ की जोरदार घोषणा कर दी है। यही नहीं, बल्कि उनके पास अपने तथाकथित ‘कैलाश’ देश के लिए प्रधानमंत्री और मंत्रीमंडल भी मौजूद है।

एक न्यूज़ एजेंसी के अनुसार, वेबसाइट में देश के लिए चंदा देने का आह्वान भी किया जा चूका है। इसके जरिए, चंदा देने वाले लोग ‘महानतम हिन्दू राष्ट्र’ के नागरिक भी बन सकते हैं।

Nityaanand Baba ‘kailaasa’

Nityaanand Baba ‘kailaasa’- यह वेबसाइट 21 अक्टूबर 2018 को बनी है। इस वेबसाइट को आखिरी बार 10 अक्टूबर, 2019 को अपडेट किया गया था। वेबसाइट का रजिस्ट्रेशन पनामा में किया गया है, और इसका IP अमेरिका के डलास में मौजूद है।

वैसे, अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि यह तथाकथित देश ‘कैलाश’ किस जगह स्थित है, लेकिन वेबसाइट कहती है, कैलाश सीमारहित राष्ट्र है, जिसका निर्माण दुनियाभर में बेदखल कर दिए गए उन हिन्दू लोगों ने किया है, जो अपने-अपने देश में प्रमाण के तौर पर हिंदुत्व को मानने का अधिकार को चुके हैं।

Nityaanand Baba ‘kailaasa’

वेबसाइट में लिखा हुआ है की कैलाश अभियान की शुरुआत संयुक्त राज्य अमेरिका में हुई है। इसकी अगुवाई, वहीं हिन्दू आदि शैव अल्पसंख्यक समुदाय कर रहा है। इसके लिए इसकी स्थापना हुई है। यानि, साफ़ शब्दों में जाने तो जो हिन्दू लोग या हिन्दू समाज को अपनाने वाले लोगों को परेशान कर रहा है, तो उन सताय गए लोगों के लिए इस ‘देश’ का निर्माण किया गया है।

वेबसाइट में एक और बात पता चली, इस हिन्दू राष्ट्र का अपना भी एक ध्वज है, इस ध्वज को ‘ऋषभ ध्वज’ कहा जाता है। इस ध्वज में भगवान शिव के वाहन नंदी के साथ नित्यानंद बाबा दिखाई दे रहे हैं। इस ‘कैलाश’ देश में कई सरकारी दफ्तर भी होंगे, जैसे, शिक्षा, वित्त, वाणिज्य आदि शामिल है।

‘जब तक देश में महिलाओं के लिए यह कानून लागू नहीं होगा, तब तक अनशन करुँगी’ – स्वाति मालीवाल

सरकारी विभाग के अलावा, इसमें एक ‘प्रबुद्ध नागरिकता विभाग’ भी होगा, जिसमें सनातन हिन्दू धर्म को पुनर्जीवित करने की राह का काम करेगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here