हवाई क्षेत्र में भारत अमेरिका, चीन जैसे ताकतवर देशों को टक्कर देने में अब पीछे नहीं है। जानकारी के मुताबिक भारत एक ऐसा विमान बना रहा है जो वर्ल्ड क्लास का होगा। इसमें कोई दो राय नहीं है कि दुनिया के सामने भारत किसी देश से कम नहीं है। अपनी सैन्य ताकत से पूरी दुनिया को अपना लोहा मनवा चुका भारत अपना खुद का स्टेल्थ फाइटर बनाने की योजना पर काम कर रहा है। इसी को देखते हुए सबसे ताकतवर देश अमेरिका ने भी भारत का साथ देने के लिए तैयार है।

स्टेल्थ फाइटर जेट

भारत बना रहा दो इंजन वाला स्टेल्थ लड़ाकू विमान, जानिए इस स्वदेशी विमान की खासियत

बता देकी भारत इस और अपना कदम बढ़ा दिया है।हालांकि यह बिमान AMCA एक अत्याधुनिक लड़ाकू विमान होगा। दुश्मनों को मात देने के लिए इस बिमान में लेटेस्ट तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। यह अत्याधुनिक विमान भारतीय वायुसेना की ताकत को कई गुना बढ़ा देगा। इस लड़ाकू विमान का डिजायन मल्टी रोल के तहत तैयार किया गया है। बताया जा रहा है कि यह बिमान मिराज 2000 और जगुआर फाइटर जेट की जगह ले सकता है। इसको लेकर भारत को रूस के बीच बात चित हो रही है। अब देखना दिलचस्प होगा की दोनों देश मिलकर यह बीमान कब तक तैयार कर लेता है।

बेमिसाल होगी क्षमता

Image result for स्टेल्थ लड़ाकू
  • जानकारी के मुताबिक यह फाइटर विमान AMCA सुपरसोनिक रफ्तार से उड़ान भरेगा।
  • इसका वजन करीब 25 टन हो सकता है।
  • यह लगातार दो घंटे तक उड़ान भर सकता है।
  • इसके साथ ही यह विमान AESA रेडार, इंफ्रारेड सर्च और ट्रैक सिस्टम से लैश होगा।
  • इसकी बॉडी को अलग-अलग मटीरियल से तैयार किया जा सकता है।
  • बताया जा रहा हाई की यह विमान राडार को भी चकमा देने में कारगर साबित हो सकता है।
  • विमान का पिछला हिस्सा भी खास तरीके से तैयार किया गया है।
  • इसमें 4 मिसाइल या बम रखने की क्षमता होगी।
  • बता दे कि इसमें हथियार रखने के लिए ज्यादा स्पेस दिया गया है।
  • विमान के हर डैने पर हथियार के लिए 3 पॉइंट दिए गए हैं।

AMCA की खासियत

Image result for स्टेल्थ लड़ाकू
  • AMCA एक मल्टीरोल स्टेल्थ विमान है ।
  • AESA राडार के साथ इसमें दो इंजन लगे होते है।
  • 3D thrust vector control से लैस होगा।
  • इस विमान को बनाने में composite material का इस्तेमाल किया गया है।
  • इसको 7 देश के राडार एक साथ मिलकर भी इस विमान को खोज नहीं सकता है।
  • AMCA बेहतर Infra Red Search and Track प्रणाली के साथ Electro-Optical Targeting System से लैस होगा।
  • कयास लगाया जा रहा है कि यह विमान भारतीय सेना में साल 2030 में शामिल हो जाएगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here